Aadat daliye kaam ko Pura Karne ki

Aadat daliye kaam ko pura karne ki जिस आप सफलता को पा सके और life में आगे बढ़ सके !अगर आपके पास best idea आया पर आपने उस idea पर काम नहीं किया तो वे बेकार है क्योकि वह आपके दिमाग (BRAIN) में ही पैदा होता है और वही मर (death) जाता है! इस दुनिया में हर् चीज़ साइकिल से लेकर ROCKET, सारे घर और इमराते एक विचार (idea) ही था जिस पर किसी ने काम किया !

काम ही आप की सफलता और असफलता तय करता है! Aadat daliye kaam ko pura karne ki

सफल इंसान काम को शुरु (start) करता है और उस को पूरा (end)  भी  करता है! आपना खुद का BUSSINESS खोलना चाहते है और खोल (open) लेते है! उनकी उम्र (age) कम है या ज्यादा इस बात से फर्क नहीं पड़ता है! सफल इन्सान को आत्मविश्वास (confidance) और आपनी आमदनी (income) को बड़ा लेते है!

असफल इन्सान (unsucessfull person) काम को टालता रहता है जब की time निकल न जाए या असफल न हो जाये!

आपना खुद का BUSSNIESS नहीं खोल पते है उन को ऐसा कोई बहना मिल जाता जिस वजह कभी bussiness नहीं खोलते ! निरासा और पैसे (money) के अभाव में जिंदगी (life) जीने के लिये मजबूर होते है!
इसलिए सफल लोगो (successfull people) में आपना नाम लिखने के लिये काम को शुरु करने और फिर उस को पुरा करने की आदत (habit) डालिए !

एक कारपेंटर जो आपना BUSSNIESS करना चाहता था

एक कारपेंटर जो की नौकरी करता था जो आपने मालिक के कहने पर बड़े-बड़े घरो में बहुत सुन्दर काम करता था और आपने मालिक को हज़ारो रुपये कमाँ कर देता था पर महीने में उस income बहुत ही कम होती थी! उस को काम का बहुत अनुभव था मालिक बहुत सी बात उस पूछ या सलाह लेकर करता था ! उसने आपना bussiness खोलने का विचार  कई बार किया पर वो आपना काम नहीं खोल पाया!

क्यों ?

होता यह था जब वो आपना bussiness शुरु करने वाला होता तो कोई न कोई problem आ जाती! पैसो की कमी, बच्चो का जन्म या उनके खर्चे , TEMPORY सुरक्षा जैसे काम नहीं चला तो, और इसी तरह के और बहाने काम टालता रहा!

एक प्रोफेसर जो एक पुस्तक लिखना चाहते थे पर कभी लिख न पाए

एक प्रोफ़ेसर जो की बहुत अच्छा पड़ते थे  एक पुस्तक लिखने की योज़ना बनाइ जिसमे वो लिखना चाहते बच्चो की अलग-अलग सोच के बारे में और कैसे अच्छे idea से वो आपने जीवन में सफलता को पा सकते है! उनके विचार INTERESTING और शानदार थे उनमे दम था लोगो पसंद आने वाले विचार थे प्रोफ़ेसर को पता था की वह क्या कहना चाहते थे और पता था उन्हें आपनी बात कैसे कहनी है! अगर प्रोफ़ेसर पूरी कर लेते तो उनको सम्मान के साथ पैसा भी मिलता! पर वो लिख नहीं पाया!

क्यों ? उसने काम शुरू ही नहीं किया और कल्पना (negative imaginetion) करने लगा उसे पुस्तक (book) लिखने में बहुत मेहनत (hard work)करनी पड़ेगी और उस कई त्याग (sacrifice) करने पड़गे या आपने आराम  comfort) के time में भी काम (work) करना पडेगा! जिस वजह से असफल रहा पुस्तक लिखने में!

Aadat daliye kaam ko Pura Karne ki
Aadat daliye kaam ko Pura Karne ki

सबसे दुःख वाले word ( Aadat daliye kaam ko pura karne ki)

“ काश (पशतावा) मैंने ऐसा किया होता या काश (guilty) मैंने वैसे किया होता! हर दिन आप किसी न किसी को ऐसी बात करते सुनते होगे काश मैंने ये bussiness या वो bussiness उस time या time से कर लिया होता तो में आज लाखो रुपये काम रहा होता ! काश मैने उस time आपने दिल की (आपने अंदर) बात सुनी होती ! अगर आप अच्छे विचार(best idea) पर अमल में लाते है तो आपको मानसिक शान्ति (peace of mind) मिलती है! क्या आपके पास भी कोई अच्छा सा विचार (idea) है ? तो देर इस बात की उस पर आमल किजिए!

आप समस्या को कैसे दूर कर सकते है? aadat daliye

भविष्य ने आने वाली कठिनाइयो को अनुमान लगा ले हर नये काम या bussiness करने में जोखिम या समस्या आने सम्भावना (possiblity) तो होती है! पर समस्या जब आये तब उनको हल करने के बारे में सोचे! कोई सफल व्यक्ति भी सारी समस्या (problem) को bussiness शुरु करने से पहले ही हल नहीं करते वो भी तब समस्या आती है तब ही उस के हल या उसको problem का slotion निकलते है!

एक छोटी सी story एक लड़की की

एक लड़की (girl) जो गाव (village) में रहती थी लड़की का पापा खेत में काम (work) करता जहा पहुचने के एक नाले को पार करना पड़ता था ! जो हर रोज़ (daily) वो लड़की (girl) पार करती थी! आपने पापा (father) को खाना (food) देने के लिये एक नाले को पार करती जिस पर एक पतला सा रास्ता बना है! एक लड़की रास्ता पर कर रही थी और जोर- जोर से रोने लगती है लोग उस से पूछते है क्यों रो रही तो वो बातती है जब में बड़ी हो जाउगी और मेरी शादी हो जाईगी और में अपने बच्चे के साथ इस रस्ते को पार करुगी तो कही में या मेरा बच्चा गिर ना जाये!

लोगो ने उस को समझाया जब वो बड़ी होगी हो सकता ये नाला पार करने का पुल बन जाये!

bussiness, शादी हो या कोई भी काम हो आप पुलों (समस्या)  को तभी पार कर सकते है जब आपके सामने पुल (problem) हो!  

कभी-कभी हम चाहते है SITUATION अच्छी हो या सब सही चल रहा हो तो में काम (work) या आपना bussiness शुरु करू!

SITUATION कभी best नहीं होगी थोडा ऊपर निचे हमेशा लग ही रहता है! इसलिए सही वक्त (time) का इंतज़ार (waint) न करे!

किसी काम पूरी तरह नहीं कर सकते तो थोडा-थोडा time निकल कर करने की कोशिश करे!

note : दोस्तों मेरी पोस्ट Aadat daliye kaam ko pura karne ki काम को कैसी लगी अगर अच्छी लगे तो आगे share जरुर करे!

Leave a Comment