NRC rule kya hai aur Assam me ise laagu Kyu kiya

 NRC rule kya hai aur Assam me laagu kyu  kiya और ये आसाम में क्यों लागू किया गया और इसको लेकर बहस और डर का मौहाल क्यों है ?

NRC जिसका पूरा नाम राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens) है !

NRC की जड़ बहुत गहरी है और इतिहास से जुडी है कैसे ?

जब India पर ब्रिटिश राज़ था ! उस टाइम आसाम चाय और खेती के बहुत जामीन थी

जिस पर काम करने के लिए लोगो बिहार और बंगाल से आते जाते रहते थे

जिसका वह के रहने वाले निवासी की तारफ से विरोध भी होता रहा था!

50 के दशक में बाहर से लोगो का आना एक राजनीतिक मुद्द बनने लगा था!

NRC rule kya hai aur Assam

1971 में बांगलादेश में भाषा को लेकर आंतरिक संघर्ष जब शुरू हुआ

तो बांगलादेश का मौहोल में इंतना ज्यादा हिंसक हो गया की वह रहने वाले डर गए

और बहुत बड़ी संख्या वह के रहने वाले हिन्दू और मुस्लिम

दोनों धर्मो की एक बहुत बड़ी आबादी ने India की तरफ रुख किया!

लगभग 10 लाखो लोगो के आस-पास बांगलादेश देश की सीमा पारकर भारत के आसाम में शरण ली!

हालाकि उस time प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने कहा था की

बंगलादेश से आने वाले लोगो चाहे किसी भी धर्म के हो उन्हें वापस जाना पड़ेगा!

आसाम में रहने वालो को राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens) में शामिल किया जा रहा है

जिसमे उन्हें ये साबित करना की वो Indian है उनके बाप दादा भी India है!

वह के रहने वालो लोगो ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens)  में

सामिल होने के लिए 3.29 करोड़ लोगो ने आवेदन किये

जिसमे 2.89 करोड़ लोगो के नाम इस में है बाकी 40-41 लाख लोगो के नाम इस में नहीं है !

आसाम सरकार (government) का कहना है

जसके नाम राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens) में नहीं है

उनको Indian होने या आपना पक्ष रखने के लिए एक महीना दिया जायेगा!

 आसाम में NRC को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा

सुप्रीम कोर्ट ने कहा की आसाम में NRC को खोलना या फिर से सत्यापित करने की सरकार की मांग को रद्द या खारिज कर दिया!

सुप्रीम कोर्ट ने कहा की NRC में शामिल देता को सुरक्षा पहलुओ को आधार की तरह ही मिलेगा!

सुप्रीम कोर्ट ने कहा उन सभी वास्तविक भारतीय नागरिको के नाम वाला एक register NRC है !

बीजेपी के गृह मंत्री अमित शाह का बयान और जिसपे सुष्मिता देव जी क्या कहा

अखिल भारतीय महिला कांगेस की सुष्मिता देव अध्यक्ष और आसाम से पूर्व सांसद रहने वाली सुष्मिता देव ने कहा!

केन्द्रीय ग्रह मंत्री आमित शाह को नागरिक के राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens)

पर गैर जिमेदाराना बयान नहीं देना चाहिए!

सुष्मिता देव ने कहा आसाम के लोग संतिप्रिय है NRC बिल के प्रकाशन के बाद राज्य में कोई गड़बड़ी या हिंसा नहीं होगी!”

लेकिन में आमित शाह को बताना चाहती हु!

उन्होंने कहा 40 लाख लोग जो NRC से बाहर है घुसपैठिए है

और उन्हें निष्कासित (देश बाहर निकल दो ) करने की आवश्यकता है !”

सुष्मिता देव ने कहा इस तरह का बयान गैरजिम्मेदार है ऐसा बयान लोगो में चिंता और दर को बढ़ता है !

आमित शाह को संयम रखना चाहिए उन्होंने ये भी कहा की जिन

40 लाख लोग को राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens) में जगह नहीं मिली

उनमे 40 से 30 फीसदी को अंतिम राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens)  में शामिल किया जाएगा

क्योकि यह मामूली SPELLING MISTAKE है जो उनका बहिष्कार या list में शामिल नहीं किया गया है !

मुसलमान में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens)  को लेकर डर और चिंता है

ये बिल या कानून हो सकता ये पुरे देश में लागू किया जाए watt-sap पर ऐसे MASSAGE भेजे जा रहे है !

बंगाल 9 अगस्त जब दोबारा BJP दुबारा सता में आई

BJP सरकार ने आपने पहले parliament सेशन में एक के बाद काई सारे बिल पेश किये

जिन में ( तलाक ), जम्मू कश्मीर 370 और (register of citizens )NRC शामिल है,

तलाक के बाने नियम कानून India में रहने मुसलमनो पर ज्यादा आसार नहीं पड़ने वाला !

जितना (NRC) से पडेगा India में मुसलानो का

आर्थिक और समाजी रूप कमजोर बनाने के मकसद से इसे बिल या कानून को लाया गया है!

NRC rule kya hai aur Assam me ise laagu Kyu kiya

पहले इस बिल या कानून को सिर्फ आसाम राज्य में लागू करने की बात कही जा रही थी

जहा पाकिस्तान और बागंलादेश के बीच 1971 में हुई जंग से

पहले हजारो बंगालदेशी आसाम में आकार बस गए थे!

parliament के कभी भी इस बिल को कभी लागू किया जा सकता ह!

इस बिल parliament के दोनी पक्षों में बहस हुई!

इस बिल पर बहस के दौरान बीजेपी के मंत्री राज़नाथ सिंह ने यहा तक कह दिया

की ये बिल या कानून सिर्फ आसाम के लिए नहीं बाल्की पुरे INDIA के लिए है

अब BJP में माजूदा मंत्री अमित शाह ने भी इस की मंजूरी दे दी है!

और कहा जा रहा है बहुत जल्द parliament के दोनों पक्षों मिलकर इस कानून को पास कर के पुरे भारत इसे लागू करेगे!

इस बिल में कहा गया है की

पाकिस्तान, बांगालेश और अफगानिस्तान से Indian में आने वाली 6 religion हिन्दू , सिख, जैन, Buddhist,

पारसी और इसाइओ को हिन्दुस्तानी और India सिटीजन को पहचान आसान बानाने के लिए ये बिल लाया गया है!

इस में मुस्लिम जाति का जिकर  तक नहीं है इसे से साफ़ जाहिर है की मजहब की बुनियाद पर इस बिल को लाया जा रहा है

आसाम में मुसलमानों से जुड़े हुए जुमेत्तुलउलमा हिन्द के सदर मौलाना सय्यद अरशाद मुद्नी साहब की तरफ से सुप्रीमकोर्ट में मुक़दमा चल रहा है

NRC को लेकर!

ये बहुत सोचने और समझने और साथ चिंता की बात भी हो सकती है (NRC rule kya hai aur Assam me ise laagu Kyu kiya )

की ये बिल पुरे India के लिए लाया जा रहा है और निशाना सिर्फ मुसलमान है

इस मामले की गंभीरता को समझते हुए

कई मुस्लिम कमेटी ने मुसलमनो को इस बिल से प्रति जागरूकता या सावधान होने की अपील की है

इस बिल को पुरे देश में लागु करने के बाद India मुस्लिम को यह साबित करना होगा की हम हिन्दुस्तानी है

अगर सबित न कर पाए तो  destination centers को भेज दिया जाएगा सभी राज्यों में ऐसा होगा  !

सभी राज्यों में destination centers बनाने की इजाजत दे दी है!

इन को destination centers में रखे जाने के बाद भी अगर टाइम के बाद जो

हमें दिया जायेगा उस में हमने ये साबित नहीं किया की हम हिन्दुस्तानी है

तो सारी प्रॉपर्टी, जायदाद सरकार जब्त कर लेगी और हमारे बच्चो को स्कुल और collage से निकल दिया जायेगा!

हमारे पास पहचान पत्र,आधार कार्ड, हिन्दुस्तानी पासपोर्ट और ड्राइविंग लाइसेंस का होना काफी नहीं है

1951 से ये साबित करना होगा की हमारे बाप दादा हिन्दुस्तानी है

इसलिए अभी मुसलमनो को चाहिए की वो आपने बाप और नाना और दादा के पुराने रिकॉर्ड जैसे उन का जनसंख्या में नाम का होना

इन स्कूली दस्तावेजात प्रॉपर्टी के पेपर वगैरह हासिल करके इसका एक अलग फाइल बनाकर महफूज़ जगह रख ले ये काम जल्दी शुरू कर दे!

सभी महकमे से ऐसे दस्तावेजात आप निकलवा कर आपने पास रख ले! कभी an time या जब ये कानून लागू हो जाए

तो वो कैसे दस्तावेजात देने से इनकार भी कर सकते है

इसलिए अभी से आपने बाप, नाना, दादा के हिन्दुस्तानी होने के document की तलाश शुरू कर दे!

अगर आपके आधार कार्ड ड्राइविंग लाइसेंस या पासपोर्ट और मार्क्स कार्ड में नामो की spelling या date of birth की कही गलती है

तो इसे फुर्सात निकल कर जल्द से जल्द सही कर वा ले!

ऐसी गलती वाले document से Indian होने या ऐसे document मिस मैच की वजह से रद भी किया जा सकता है!

याद रहे आसाम में 40 लाख मुसलमानो के दस्तावेजात या document को छोटी-छोटी गलतियों की बुनियाद पर रिजेक्ट कर दिये गए है!

जिस वजह से उन्हें अब भी परेशानियों का सामना करना पड रहा है उन के घर गिरा दिए गए है और उन्हें destination centers में रखा गया है

उन्हें हक़ दिलाने के लिए जुमेतुल उलमा  ने चार अच्छे वाकिल को मुकरर किया है अदालत में एक दिन की हाज़री के लिए एक वाकिल की फीस 15 लाख रूपये है!

Ola cabs booking India me popular kyu hai

NATIONAL REGISTRATION OF CITIZENSHIP (NRC rule kya hai aur Assam me ise laagu Kyu kiya)

LIST-A

A PERSON, S NAME ON any one of these documents, if issued before the midnight of 24 March 1971, will make him/her eligible for inclusion in the updated NRC

1 Residence proof from or before 1951 (Grand Father, Grand Mother, Father & Mother and your link with him/her

  1. Any voter list up to 24 March 1971
  2. Land and tenancy record
  3. Citizenship certificate
  4. Permanent residential certificate
  5. Refugee registration certificate
  6. passport
  7. LIC policy document
  8. Any government-issued license/ certificate
  9. Any government service/ employment certificate
  10. Bank or post office accounts
  11. Birth certificate
  12. Board/University educational certificate

14 . Court record/process

दस दिनों के अंदर अधिक से अधिक 1951 से अभी तक का दस्तावेज़ अपने पास रखले और आपसे उनका सम्बन्ध क्या है

Reminder given by DR. TAHIR JALAL UDDIN HASMI

दोस्तों watts ap पर ऐसे message बजे जा रहे है

आसाम राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (national register of citizens)  का बिल या

कानून का असर पुरे भारत पर हो रहा है !

इसलिए हमारे सांसद, MLA, या मंत्री जो की जनता का पर्तिनिधित्वा करते ऐसा कुछ न कहे

जिस देश जनता के पास कोई गलत सन्देश जाए या भेदभाव की भावना का प्रसार हो !

सरकार को कोई कानून बानने से पहले गरीब के बारे में पहले सोचना चाहिए

क्योकि उनकी नॉलेज या उनके पास सही जानकारी नहीं पुहुच पाती है !

किसी कानून या बिल में भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए!

दोस्तों मैंने मेरी पोस्ट NRC rule kya hai aur Assam me ise laagu Kyu kiya

 में कुछ जरुरी IMPORTANT बाते या news ही आप तक share की  है अगर अब

इसके बारे  ज्यादा जाना चाहते है

तो आप नीचे link पर click कर के पड़ सकते है !

NRC की जाड़े इतिहास से जुडी हुई है

सुप्रीम कोर्ट reject govt demand to re-verify NRC in आसाम 

अमित शाह का बयान NRC पर

1 thought on “NRC rule kya hai aur Assam me ise laagu Kyu kiya”

Leave a Comment