Vishwas kijiye aur safal ho Jaye

vishwas kijiye aur safal ho jaye  me aaoko ये बातया गया है की vishwas कैसे काम करता और इस को कैसे बनते है !सफलता (sucess) का मतलब (meaning) होता है जीतना (won) : आपनी कमियों से, आपने डर (fear) से,

हर इन्सान चाहता (wish) है की वो आपनी life में suceess हो. उसे जिंदगी में सुख (happiness) मिले! कोई भी आपने जीवान में पैसो (money) के कमी को लेकर जीना (life) नहीं चाहता है!

पर ये सफलता (success) मिलती कैसे है?

आपकी सोच सफलता (suceess) और असफलता( unsuceess) को तय करती है!  इस बात से फर्क नहीं पड़ता आपका दिमाग (brain) बड़ा है या छोटा फर्क इस बात से पड़ता है

आपकी सोच (thought) छोटी है या बड़ी है!  आप की सोच (thought) ही आने वाले time पर आपका बैंक balnce, और आपके सुख (happiness) को निर्भर करते है!

अगर बड़ी सोच (thought) ही कमयाभी या सफलता(suceess) के लिये जरुरी है तो हम सब बड़ी सोच (thought) क्यों नहीं रखते?

क्योकि हमारे आस- पास का माहौल (envirment) या लोगो (people) की सोच (thought) छोटी है और हमें बड़ी सोच का माहौल(enverment) नहीं मिलता है! आप को हर काम (any work) जो आप शुरु करने जा रहे है या कर रहे है

उस काम (wrok) में कमिया बतने ने वाले आपको हजारो मिल जायेगे पर ऐसे बहुत कम लोग आपको मिलेगे जो बतएगे की इस काम(work) को आप ऐसे करे जिससे आपको सफलता(suceess) या कमयाबी मिल जायेगी!

जिस आप और हम प्रभावित (effect) होते है! vishwas kijiye aur safal ho jaye

एक चित्रकार ने एक बहुत अच्छी तस्वीर (penting) बनाई और लोगो उस तस्वीर (penting) की तारीफ कर उस के लिये उस ने उस तस्वीर(penting) को आपने घर (house) सामने बाहर रोड पर रख दिया साथ एक कलम(pen) रख दी रात(night) जब चित्रकार ने आपनी पेंटिग को देखा तो

वो देख कर हैरान (surperised) रह गया लोग(people) उस तस्वीर में बहुत- सी कमिया पर लिखा हुआ था किसी को उस color पसन्द नहीं किसी कुछ पसन्द नहीं आया चित्रकार बहुत उदास (sad) हो गया और दुसरे अपने गुरु( teacher) के पास गाया!

दुसरे गुरु(teacher)  उस पेंटिग के निचे कुछ लिखा और कहा आप किस वही रख आना और फिर दिखना! दुसरे उस तस्वीर पर किसी कुछ नहीं लिख गुर उस तस्वीर(penting) के निचे लिखा था

अगर मेरी तस्वीर (penting) में कही कोई कमी आप को लगे तो उस ठीक कर दे! बहुत से इंसान(person) कमी ही बता सकता है खूबिया या आपको आगे बड़ने के लिये बड़ी सोच (thought) नहीं दे सकते!

शेक्सपियर ने कहा है  कोई भी चीज़ बुरी और अच्छी (good) नहीं होती है हमारा नजरिया (thought) ही use अच्छा या बुरा (bad) बनता है!

बड़ा सोचिये और आपने जीवन (life) में बड़े बन सकेगे आप!

महाँन दार्शनिक डिजराइली का विचार जिंदगी (life) इतनी छोटी है इसे घटिया नहीं होना चाहिए!

Vishwas kijiye aur safal ho Jaye
                              Vishwas kijiye aur safal ho Jaye

आपनी सोच (thought) को बड़ा कैसे बनये?

विश्वास ही वो power या शक्ति है जिससे सोच (thought) को बड़ा किया जा सकता है! में यह काम कर सकता हु i can do  ये विश्वास (believe) हमें शक्ति (power) और वो योग्यता(capablity) देता है जिसके सहरे हम वह काम (work) कर पाते है!

जब आपको यकींन (believe) हो जाता है आप कोई काम (work) कर सकते! तो दिमाग(brain) और आपका मन (heart) आपको ये बाताते इस कैसे किया जा सकता है!

जितने भी वैज्ञानिक खोजे हुई है सब इसलिए हुई है क्योकि उस वैज्ञानिक को विश्वास (believe) था वो ऐसा कर सकता और ऐसा हो सकता है! इस विश्वास ने उसको सहस, जोश, और वो रूचि (interest) उस में पैदा हुई जिससे उस आगे बड़ने की प्ररेणा (inspristion) मिली और उसको कामयाबी ( success) मिली!

जब आपको आपने काम (work) और आपने ऊपर विश्वास (believe) होता है तो आपके कामो में विश्वाश (believe) दीखता है आपकी body lanauge, आपका लोगो( people) से बात करना, आपके विचार (thought)  सभी में विश्वास (believe) झलकता है!

विश्वास किस तरह develop करे?vishwas kijiye aur safal ho jaye

1.सफलता (success) के बारे में सोचे ( thought ), कठिन परिस्थियों में भी हार न माने!

2.दिल (heart) और दिमाग (brain) को अपन सहयोगी  बनाये “ में कर सकता हु (I can do )” जिससे दिमाग(brain) आपको ऐसे idea देगा जिससे आप सफलता (success) को पा सकते है!

3. जो किसी भी फिल्ड में लोग सफल (success) हुए है या होते है वो भी साधारण लोग ही होते है बस उन की सोच साधारण न हो कर बड़ी सोच (thought) होती है जो उन को उस कठिन परिस्थियाँ से बहार आने में मदद करती है!

अगर आप जितना चाहते है तो खुद के विकास  की योजना बना लेनी चाहिए !

आपना देखा होगा जब कोई race शुरु होती है चाहे वो ओलंपिक की race हो या कोई नेशनल race हो उस में दौड़ने वाले बहुत से लोग होते है ! आप देख कर ये नहीं बता सकते की इन में से कौन race में जीतेगा और कौन-सा race में पीछे रह जाएगा !

कोई आदमी race में आगे रहेगा या पीछे रह जाएगा या इस बात पर निर्भर करता है उस की तैयारी कैसी है!

उसने किनती perctice करी है race के लिये उसने कितनी मेहनत करी है उस दिन के लिये! यह ऐसी चीज़ है जिसके  में time लगता मेहनत लगती है जिसके लिये त्याग की जरुरत होती है ये आपके लिये कोई दूसरा नहीं कर सकता है!

इस से इस तरह भी समझ सकते है की आपको घुमने के लिये आगरा जाना है जहा आप ताज़महल को देखना चाहते है पर आपको नहीं पता वह कैसे पहुचते है आपके दोस्तों ने आपको बतया की आप वो train से वह जा सकते है

क्योकि उसने वो train चुनी होगी ! पर अगर आप आगरा जाना चाहते है तो आपको आगरा जाने के लिये train टिकेट लेना पड़ेगा और train बैठ कर वह जाना पड़ेगा!

आप कोई bussiness करना चाहते है या कुछ भी बना न चाहते हो

जैसे doctor, bussinessman, dancer, writer, या कोई दूसरी फिल्ड में जाना चाहते है!

1.आपको सब से पहले ये तय करना होगा की आप क्या करना चाहते है और क्यों करना चाहते है!

2. अब आता है कैसे किया जाये उन तरीको को ढूढे जिस उस काम को किया जा सके!

3. उस से परिणाम मिलना चाहिए !

अपने आपको सिखने का जिम्मा सिर्फ आपका है! कोई पुस्तक या कोई गुरु आप को कुछ भी नहीं सिखा सकता जब तक आप खुद ना कुछ सीखना चाहो!

सौ बात की एक बात आपको ही खुद को इस काबिल बना है की आप बड़ी से बड़ी सफलता को हासिल कर सके!

note : पर एक बात याद रखे कोई भी ऐसा काम न करे जो गलत हो या जिससे दुसरो को नुक्सान पहुचता हो किसी को धोखा दे कर सफलता या money हासिल न करे! और ऐसे काम या लक्ष्य बनया

जो natural या pectrical न हो जैसे पानी में मछली रहती है उस को आप आसमान या जमींन या पेड़ नहीं बैठा सकते है न वो उसके लिये अनुकूल है!

दोस्तों मेरी पोस्ट vishwas kijiye aur safal ho jaye आपको अच्छी लगे आगे share जरुर करे !

Leave a Comment